यदि आप बीमार हों और आपकी कंपनी के मालिक अचानक आपसे मिलने पहुंच जाएं तो आपको कैसा लगेगा। इस खुशी को बता पाना थोड़ा मुश्किल है। मशहूर उद्योगपति रतन टाटा पारंपरिक उद्योगपतियों से अलग छवि रखते हैं। सफल उद्योगपति होने के साथ ही वे अपनी सरलता और सादगी के लिए भी जाने जाते हैं। इन दिनों कुछ ऐसा ही हुआ है। दरअसल रतन टाटा कई दिनों से बीमार चल रहे अपनी कंपनी के एक कर्मचारी से मिलने के लिए मुंबई से पुणे पहुंच गए। यह सब उन्होंने इतनी शांति और सौम्यता से किया कि मीडिया को भी इसकी जानकारी नहीं थी।

रतन टाटा अपने कर्मचारियों के हित में अनेक योजनाएं चला रहे हैं। अब वे अपने इस कर्मचारी से मिलने पहुंचे तो उनके इस विनम्र व्यवहार ने सभी का दिल जीत लिया। वे चुपचाप अपने कर्मचारी की बिल्डिंग में पहुंचे और लिफ्ट की तरफ चले गए। दोपहर लगभग 3 बजे वह कोथरूड में गांधी भवन के पास वुडलैंड सोसाइटी में पहुंचे और कर्मचारी के घर जाकर उससे मिले और बात की। वह यहां आधे घंटे के करीब रुके और कर्मचारी के अच्छे स्वास्थ की कामना की। 

सोसाइटी में रहने वाले लोग भी उन्हें इस तरह से वहां देखकर हैरान हो गए। एक महिला ने बताया कि वह इतने सहज थे कि उन्हें देखकर लगा ही नहीं कि वह इतने बड़े उद्योगपति हैं। उन्हें पहले लगा कि वे रतन टाटा हैं फिर बाद में बिल्टिंग के कर्मचारियों ने बताया कि वह रतन टाटा ही हैं। रतन टाटा सोसाइटी के अध्यक्ष से भी मिले और उनकी बेटी से बात की। उन्होंने उनकी बेटी को बताया कि हम अपने लक्ष्य पर ध्यान केंद्रित रखें और कभी विचलित न हों।  

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *