Bird Flu Virus: पूरा देश कोरोना महामारी से परेशान है। इस बीच राजस्थान और मध्य प्रदेश में बड़ी संख्या में कौवों की मौत हो गई। इन मौतों के पीछे की वजह ‘बर्ड फ्लू’ वायरस को बताया जा रहा है। मामले की गंभीरता को देखते हुए केंद्र सरकार भी एक्टिव मोड में आ गई है। साथ ही सभी राज्यों को इसके खतरे को लेकर अलर्ट जारी कर दिया गया है। अब जिन-जिन इलाकों में कौवों की मौत हुई है, वहां पर लोगों की भी मॉनिटरिंग की जा रही है। ताकी इस वायरस को इंसानों में फैलने से रोका जा सके। बर्ड फ्लू पहले भी कई बार भारत में कहर बरपा चुका है।

राजस्थान के प्रमुख सचिव कुंजी लाल मीणा ने रविवार को कहा कि अब तक कोटा में 47, झालावाड़ में 100 और बारां में 72 कौवों की मौत हुई है।बूंदी में भी कौवों की मौत की खबर थी, लेकिन जांच में ऐसा कुछ नहीं मिला। मामले की गंभीरता को देखते हुए सभी जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं। साथ ही लोगों को जागरुक भी किया जा रहा है। इससे पहले शनिवार को झालावाड़ में 25, बारां में 19, कोटा में 22 और जोधपुर में 152 कौवे मृत पाए गए थे। मीणा के मुताबिक प्रशासन की ओर से एक कंट्रोल रूम स्थापित कर दिया गया है, जहां पर बर्ड फ्लू से जुड़ी जानकारियां दी और ली जा सकती हैं।

तीन दिन पहले मध्य प्रदेश के इंदौर जिले में 50 कौवे मरे हुए मिले थे, जिनमें बर्ड फ्लू वायरस मिला है। मामले में इंदौर के पशु चिकित्सा सेवा के उप निदेशक प्रमोद शर्मा ने कहा कि शहर के डेली कॉलेज कैंपस में शुक्रवार को 20 कौवों के शव मिले, जिनके सैंपल जांच के लिए भेज गए हैं। अभी रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है। वहीं इंदौर की मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि करीब 50 कौवों में H5N8 वायरस मिल चुका है।

केंद्र ने भी दिए निर्देश

कोरोना महामारी से केंद्र सरकार ने भी सबक लिया है। हालात नहीं बिगड़ें ऐसे में राज्यों को बर्ड फ्लू से संबंधित अलर्ट जारी कर दिया गया है। साथ ही मृत पक्षियों के सैंपल लेकर जांच के लिए भेजने के भी निर्देश दिए गए हैं। वहीं जहां-जहां पर पक्षियों के शव मिल रहे वहां पर जांच अभियान चलाया जा रहा है, ताकी संदिग्ध फ्लू के मरीजों को अलग किया जा सके। इंदौर प्रशासन के मुताबिक कॉलेज परिसर के 5 किलोमीटर के एरिया में घर-घर जाकर जांच की जा रही है। साथ ही स्वैब सैंपल लिए जा रहे हैं।

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *