ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (डीसीजीआई) डा. वी जी सोमानी ने आज दो कोरोना वैक्सीन को दी गई मंजूरी का औपचारिक रूप से ऐलान कर दिया। इस ऐलान के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट करके देशवासियों को बधाई दी। पीएम मोदी ने कहा कि वैक्सीन को मंजूरी मिलने से कोरोना मुक्त राष्ट्र होने का रास्ता साफ हो गया है।

प्रधानमंत्री मोदी ने देश को बधाई देते हुए कहा कि सीरम इंस्टीटयूट और भारत बायोटेक की वैक्सीन को डीजीसीआई की मंजूरी मिलने के बाद कोरोना मुक्त राष्ट्र होने का रास्ता साफ हो गया है। रविवार को प्रधानमंत्री ने ट्वीट करके कोरोना वैक्सीन को तैयार करने में जुटे वैज्ञानिकों, शोधकर्ताओं और पूरे देश को बधाई दी।

उन्होंने ट्वीट करके डॉक्टरों, स्वास्थ्य कर्मचारियों, वैज्ञानिकों, पुलिस कर्मियों, सफाई कर्मचारियों सहित सभी कोरोना योद्धाओं के उत्कृष्ट कार्यों के लिए सभी का आभार प्रकट किया। नरेन्द्र मोदी ने ट्वीट में कहा कि आज हर भारतीय को गर्व होगा कि जिन दो टीकों को आपातकालीन उपयोग की मंजूरी दी गई है वे भारत में बने हैं। यह हमारे वैज्ञानिक समुदाय के उत्साह को दर्शाता है। आत्मनिर्भर भारत के सपने को पूरा करता है।

डीजीसीआई ने दी अनुमति

ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (डीसीजीआई) ने ऑक्सफोर्ड व सीरम इंस्टिट्यूट की वैक्सीन कोविशील्ड और भारत बायोटेक की वैक्सीन कोवैक्सीन को आपात इस्तेमाल की अनुमति दे दी है।

केंद्रीय औषध मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) ने कोविड-19 पर एक विशेषज्ञ समिति का गठन किया था जिसमें वैक्सीन से संबंधित सभी विशेषज्ञों की टीम बनाई गई थी। इस कमेटी ने पिछले दो दिन यानि 1 और 2 जनवरी की बैठक में ऑक्सफोर्ड की कोविशील्ड और भारत बायोटेक की कोवैक्सीन के सभी डेटा का अध्ययन किया। सभी पहलुओं पर विचार करने के बाद कमेटी ने इन दोनों वैक्सीन के आपात इस्तेमाल की सिफारिश की थी।

इन दोनों वैक्सीन को डीसीजीआई से अंतिम अनुमति मिलनी बाकी थी। ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया जब किसी दवा, ड्रग, वैक्सीन को अंतिम अनुमति देता है, तभी इन दवाओं, वैक्सीन का सार्वजनिक इस्तेमाल हो सकता है। ऐसी इजाजत देने से पहले डीसीजीआई वैक्सीन पर किए गए परीक्षण के आंकड़ों का कड़ाई से अध्ययन करता है और संतुष्ट होने के बाद ही वैक्सीन के सार्वजनिक इस्तेमाल की इजाजत देता है। डीसीजीआई के निदेशक डॉ. वीजी सोमानी ने आज प्रेस वार्ता में बताया कि सभी वैक्सीन के साइड इफेक्ट्स होते हैं, इसलिए उससे घबराने की आवश्यकता नहीं है। कोरोना वैक्सीन पूरी तरह सुरक्षित वैक्सीन है।

ओवरऑल क्षमता 70.42%

डॉ. सोमानी ने कहा कि दोनों ही वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित हैं और इसका इस्तेमाल इमरजेंसी की स्थिति में किया जा सकेगा। डीसीजीआई के मुताबिक दोनों ही वैक्सीन की दो डोज इंजेक्शन के रूप में दी जाएगी।डीसीजीआई के मुताबिक सीरम इंस्टीट्यूट के वैक्सीन की ओवरऑल क्षमता 70.42% थी। सीरम के आंकड़े दूसरे देशों में किए गए अध्ययन से मेल खाते हैं। डॉ. सोमानी ने कहा कि सीरम द्वारा इस वैक्सीन पर देश में क्लिनिकल ट्रायल जारी रहेगा। इस तरह डीसीजीआई ने सीरम इंस्टीट्यूट की वैक्सीन कोविशील्ड और भारत बायोटेक की वैक्सीन कोवैक्सीन पर मुहर लगाते हुए इनके आपातकाल इस्तेमाल की अंतिम मंजूरी दे दी है।अब यह वैक्सीन देश में आम लोगों को लगाई जा सकेंगी।

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *