हाथरस के गैंगरेप केस में पीड़िता के शव को देर रात अंतिम संस्कार करवाने के बाद चर्चा में आए डीएम प्रवीण लक्षकार का योगी सरकार ने अब ट्रांसफर कर दिया है। उन्हें मिर्जापुर का जिलाधिकारी बनाया गया है। पीड़िता के परिजन डीएम को बर्खास्त करने की मांग कर रहे हैं। पीड़िता की भाभी का कहना है कि डीएम साहब मिर्जापुर में भी जाकर बेटियों के साथ ऐसा ही व्यवहार करेंगे।

डीएम का तबादला होने के बाद पीड़िता की भाभी ने डीएम को लेकर अपना गुस्सा जाहिर किया। पीड़िता की भाभी ने कहा कि हाथरस के डीएम को बर्खास्त होना चाहिए। न जाने सरकार उन पर क्यों मेहरबान है। सरकार ने इनाम में दे डाला हाथरस से बड़ा जिला। जिस जिले में वह जाएंगे वहां ऐसा ही करेंगे। ट्रांसफर के बारे में रात को ही पता चल गया था। डीएम को सबक मिलना चाहिए। डीएम ने इस पूरे मामले में क्या खोया है, खोया तो उनके परिवार ने है।

यह है पूरा मामला : 

हाथरस के चंदपा कोतवाली क्षेत्र के गांव में युवती के साथ गैंगरेप और बाद में उसकी मौत के मसला देश में राजनीतिक तूफान बन गया। दिल्ली के अस्पताल में युवती की मौत के बाद रातों-रात उसका शव परिजनों से पूछे बगैर जलाने के मामले ने आग में घी का काम किया। मीडिया, सोशल मीडिया और राजनीतिक दलों ने इस खासा मुद्दा बनाया। युवती के साथ हैवानियत और बाद में उसका अंतिम संस्कार सरकार और प्रशासन की गले की फांस बन गया। इन दोनों ही मामले में पुलिस-प्रशासन पर सारा दोष आया। दबाव बढ़ने पर यूपी सरकार ने हाथरस के एसपी समेत पांच पुलिसवालों को सस्पेंड कर दिया, लेकिन डीएम को बने रहने दिया। इसी बीच डीएम प्रवीण लक्षकार का एक वीडियो वायरल हुआ, जिसमें वे पीड़िता के घर बैठकर उन पर मीडिया से दूर रहने के दबाव बनाते दिखे। इसके बाद पीड़ितों के परिजनों ने भी डीएम पर आरोप लगाते हुए उनके तबादले की मांग की।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी और प्रियंका भी गांव पहुंचे और डीएम के तबादले की बात कही। यहां तक की हाईकोर्ट ने पहली पेशी के दौरान सरकार से पूछा कि जब एसपी को हटाया गया तो डीएम को क्यों नहीं, लेकिन सरकार ने डीएम के पक्ष में बात कही। लाख दबाव के बावजूद योगी सरकार ने डीएम प्रवीण को यहां से टस से मस से नहीं किया। बीती 18 दिसंबर को सीबीआई ने इस मामले की चार्जशीट हाथरस कोर्ट में दाखिल कर दी है। अब गेंद कोर्ट के पाले में है। हर तरह से इस मामले के तूफान का गुब्बार थम गया है। साल के आखिरी दिन सरकार ने प्रवीण को तबादल कर उन्हें मिर्जापुर का डीएम बनाया है। प्रवीण लगभग 22 माह की चर्चित पारी खेलने के बाद अपने अगले पड़ाव मिर्जापुर के लिए चल दिए हैं। रमेश रंजन हाथऱस के अगले डीएम होंगे।

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *