पश्चिम बंगाल में इसी साल अप्रैल-मई के महीने में चुनाव होने की संभावना है। उससे पले सियासी उठापटक जारी है। हाल ही में तृणमूल कांग्रेस छोड़ बीजेपी का दामन थामने वाले सांसद सुनिल कुमार मोंडल को केंद्र सरकार ने वाई प्लस कैटेगरी की सुरक्षा मुहैया करायी है। गृह मंत्रालय ने इसकी मंजूरी दे दी है। सीआरपीएफ को उनकी सुरक्षा के लिए कहा गया है।

इससे पहले तृणमूल कांग्रेस छोड़कर बीजेपी का दामन थामने वाले शुभेंदु अधिकारी को जेड कैटेगरी की सुरक्षा दी गई थी। अधिकारी के साथ बीजेपी का दामन थामने वाले नेताओं में सुनील कुमार मोंडल भी शमिल थे। इन दोनों के अलावा इसी दिन ममता के कई विधायकों ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की मौजूदगी में भगवा झंडा थाम लिया। 

इसके बाद टीएमसी को उस समय बड़ा झटका लगा, जब पार्टी के स्थापना दिवस पर कोंटाई नगर निकाय में पार्टी के अधिकतर पार्षद उसका साथ छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए। 20 सदस्यों वाली कोंटाई नगरपालिका में 15 पार्षद शुक्रवार को भाजपा में शामिल हो गए। इसमें कोंटाई नगरपालिका के पूर्व प्रशासक सौमेन्दु अधिकारी भी शामिल हैं जो शुभेन्दु अधिकारी के भाई हैं।

शुभेंदु अधिकारी ममता बनर्जी सरकार में वरिष्ठ मंत्री थे लेकिन वह पिछले महीने बीजेपी में शामिल हो गए। सौमेन्दु को हाल ही में ममता बनर्जी सरकार ने नगर निकाय के प्रशासक पद से हटा दिया गया था। बता दें कि बंगाल में इस साल अप्रैल-मई में विधानसभा चुनाव होने हैं।

पिछले महीने तृणमूल कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हुए शुभेन्दु अधिकारी ने कहा कि राज्य सरकार की ओर से सौमेन्दु को हटाना बदले की भावना से उठाया गया कदम था। राज्य के पूर्व मंत्री ने यह भी कहा कि ममता बनर्जी सरकार नगर निगम चुनाव कराने में देरी कर रही है, क्योंकि वह अपनी आसन्न हार से भयभीत है। उन्होंने कहा, ”लोग भाजपा के पक्ष में मतदान करेंगे, चाहे वह निकाय चुनाव हों या विधानसभा चुनाव।

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *