योगी सरकार ने प्रदेश के 52 आईपीएस अफसरों को प्रमोट करने का फैसला किया है। मंगलवार को मुख्य सचिव आरके तिवारी की अध्यक्षता में हुई विभागीय प्रोन्नति समिति (डीपीसी) की बैठक में यह फैसला किया गया। इसमें वर्ष 1996 बैच के आईजी रैंक के सात आईपीएस अफसरों को एडीजी और वर्ष 2003 बैच के सात आईपीएस अफसरों को आईजी रैंक में प्रोन्नत किए गए हैं। निलंबित होने के कारण वर्ष 2003 बैच के दो आईपीएस अफसरों अरविन्द सेन व दिनेश चंद्र दुबे का लिफाफा बंद रखा गया है। 

बैठक में वर्ष 2007 बैच के 10 आईपीएस अफसरों को एसपी से डीआईजी, 2017 बैच के 16 आईपीएस अफसरों को एएसपी से एसपी तथा वर्ष 2008 बैच के 12 आईपीएस अफसरों को सेलेक्शन ग्रेड दिया गया। बैठक में अपर अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी व डीजीपी एचसी अवस्थी भी मौजूद रहे। सूत्रों के अनुसार केवल चार पद ही रिक्त होने के कारण आईजी रेंज आगरा ए. सतीश गणेश, आईजी कानून-व्यवस्था ज्योति नारायण, आईजी बजट नवनीत सिकेरा व आईजी फायर सर्विस विजय प्रकाश एडीजी पद पद पर प्रोन्नत हो जाएंगे।

अमिताभ यश, विजय सिंह मीना व डॉ. एन. रविन्दर को पद रिक्त होने पर एडीजी पद पर प्रोन्नत किया जाएगा। हालांकि तीनों पद वर्ष 2021 में ही रिक्त हो जाएंगे। डीआईजी से आईजी पद पर प्रोन्नत किए जाने वालों में मोदक राजेश डी राव, विनय कुमार यादव, हीरालाल, संजय कुमार, शिव शंकर सिंह, राकेश सिंह व राजेश पांडेय शामिल हैं।

सूत्रों के अनुसार वर्ष 2007 बैच के आईपीएस अमित पाठक, जोगेन्द्र कुमार, विनोद कुमार, रवि शंकर छवि, प्रतिभा अंबेडकर, नितिन तिवारी, अनिल कुमार सिंह, पंकज कुमार, गोपेश खन्ना व अशोक कुमार तृतीय को एसपी से डीआईजी के पद पर प्रोन्नति दी गई है। इसमें अमित पाठक वाराणसी के एसएसपी, जोगेन्द्र कुमार गोरखपुर के एसएसपी व विनोद कुमार वर्तमान में कुशीनगर के एसपी पद पर कार्यरत हैं। इन अफसरों के प्रोन्नत होने कारण संबंधित जिलों में जल्द ही बदलाव किए जाने की संभावना है। 

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *