ब्रिटेन से निकलकर दुनिया के कई देशों में पहुंच चुके कोरोना के नए वेरिएंट से हंगामा मचा हुआ है। भारत में भी यूके से आए 6 लोगों में नए वेरिएंट पाए गए हैं। इस बीच प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार प्रोफेसर के विजय राघवन ने राहत की खबर दी है। दरअसल ब्रिटेन और साउथ अफ्रीका में पाए गए कोरोना के नए प्रकार पर भी वैक्सीन प्रभावी होगी।

मंगलवार को आयोजित प्रेसवार्ता में विजय राघवन ने कहा कि अभी तक ऐसे कोई तथ्य नहीं मिले हैं जिससे यह कहा जाए कि वैक्सीन नए वेरिएंट पर कारगर नहीं होगी। इसलिए अभी तक इस नए वेरिएंट से घबराने की आवश्यकता नहीं है। उन्होंने कहा कि वैक्सीन लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाती है, अभी तक वायरस में पूरी तरह से बदलाव नहीं हुआ है, इसलिए अभी तक इसके लिए बनाए जा रहे टीके पूरी तरह से प्रभावी होंगे।

वहीं कोरोना वायरस में आए बदलाव के कारणों के सवाल पर आईसीएमआर के महानिदेशक बलराम भार्गव ने बताया कि वायरस पर अधिक उपचार व एंटीबॉडीज के दवाब के कारण वायरस के स्वरूप में बदलाव आ जाता है। इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि हम वायरस पर बहुत अधिक प्रतिरक्षा दवाब न डालें। हमें ऐसी चिकित्साओं का विवेकपूर्ण उपयोग करना होगा जो लाभ देने वाली है। अगर इससे उपचार न हो, तो इसका उपयोग नहीं करना चाहिए। नहीं तो यह वायरस पर दवाब डालेगा और यह अधिक बदलेगा।

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *