प्रदूषण घटाने में नई तकनीक से बन रही कोल्ड मिक्स सड़कें कारगर साबित होंगी। शहर में पर्यावरण को अनुकूल बनाने के लिए लोक निर्माण विभाग हॉट मिक्स की बजाय कोल्ड मिक्स सड़कें बना रहा है। सीमेंट और इमल्शन से तैयार सड़कों का बड़ा फायदा यह कि इससे कार्बन उत्सर्जन घटेगा साथ ही लागत भी कम आएगी। प्रदेश भर में 18 प्रतिशत औसतन सड़क लागत की बचत आंकी गई है। नई तकनीक से जहां सर्दी के मौसम में भी सड़कों का निर्माण होगा साथ ही प्राकृतिक संसाधनों का दोहन भी कम होगा।

प्रदेशभर में इस तकनीक से ढाई सौ से तीन सौ सड़कों का कोल्ड मिक्स तकनीक से निर्माण होना शुरू हुआ है। हालांकि लोक निर्माण विभाग (लोनिवि) में इसे ट्रायल के तौर पर देखा जा रहा है। प्रयोग सफल रहा तो यूपी में सड़क निर्माण में इसी तकनीक से होगा। दिल्ली, एनसीआर के साथ यूपी के कई शहरों में प्रदूषण का खतरा मंडराया हुआ है। लाख कोशिश के बाद भी प्रदूषण खतरनाक स्तर बरकरार है। सरकार की मंशा है कि शहरों में वायु प्रदूषण पर अंकुश लगे। इसी परिपेक्ष्य में लोनिवि में सड़क निर्माण में नई तकनीक का प्रयोग हो रहा है। अभी तक हॉट मिक्स प्लांट से ही सड़कों का निर्माण होता था। प्लांट से तारकोल जलाने, धूल आदि के कण हवा में फैलते है। 

लोनिवि मुरादाबाद के अभियंता आरके सिंह ने बताया कि लोनिवि में कोल्ड मिक्स तकनीक से सड़कें बन रही है। सीमेंट व इमल्शन से तैयार सड़क निर्माण से वायु प्रदूषण पर अंकुश लगेगा। साथ ही सड़क की लागत भी घटेगी। नई तकनीक से तारकोल जलने व धूल उड़ने की समस्याएं न होने से कार्बन उत्सर्जन में भी कमी आएगी। मुरादाबाद में बंकावाला, कैंच की पुलिया समेत चार सड़कों का निर्माण इसी कोल्ड मिक्स तकनीक से हो रहा है। प्रयोग सफल रहा तो संपर्क मार्गो के बाद ग्रामीण सडकों का निर्माण इसी तकनीक से हेागा।

सड़क खर्च में 18 फीसद बचत

लोनिवि मुख्यालय ने नई तकनीक से सड़क बनाने पर जोर दिया है। कोल्ड मिक्स प्लांट से बड़ा फायदा प्रदूषण से बचाव में होगा।  साथ ही लागत भी असर पड़ेगा। पूरे प्रदेश में 18 प्रतिशत औसत बचती आंकी गई। दरअसल राज्य मुख्यालय में तकनीक से सड़क एस्टीमेट में 14 से 22 प्रतिशत तक कमी आई। जबकि सड़क की मोटाई बढ़ाने में बजरी के साथ पहाड़ का पत्थर भी है। नई तकनीक में पत्थर की जरुरत नहीं पड़ेगी। यानी प्राकृतिक संसाधनों का भी दोहन कम होगा। 

कोल्ड मिक्स प्लांट के फायदे

-प्रदूषण की मात्रा का स्तर घटेगा
-सड़क लागत में 18 प्रतिशत कम
-हॉट मिक्स में तारकोल डीजल जलने से कार्बन उत्सर्जन पर कोल्ड मिक्स में इसकी कमी 
-जाड़े हॉट मिक्स प्लांट नहीं चलते पर नई तकनीक में सड़क निर्माण कारगर

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *