पीएम नरेंद्र मोदी ने इंडिया इंटरनेशनल साइंस फेस्टिवल (IISF) का उद्घाटन किया। उन्होंने अंतर्राष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव के दौरान वैज्ञानिकों को वर्चुअल संबोधन किया। पीएम ने कहा कि साइंस और तकनीक तब तक साथ नहीं चल सकती है जबतक इसका लाभ आम आदमी को न मिले।

अंतर्राष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव के मौके पर पीएम नरेंद्र मोदी ने शिक्षा क्षेत्र में किए जा रहे बदलावों को कॉम्प्लिमेंट करने के लिए अटल इनोवेशन मिशन भी शुरु किया। ये मिशन एक प्रकार से इंक्वायरी को, इंटरप्राइज को, इनोवेशन को सेलिब्रेट करता है। भारत ग्लोबल हाईटेक पॉवर के इवोल्यूशन और रिवोल्यूशन का सेंटर बन रहा है।

पीएम मोदी ने कहा कि बीते 6 साल में युवाओं को अवसरों से जोड़ने के लिए देश में साइंस और तकनीक के उपयोग का विस्तार किया गया है साइंस की महत्ता की बात करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि बीते 6 साल में युवाओं को अवसरों से जोड़ने के लिए देश में साइंस और तकनीक के उपयोग का विस्तार किया गया है।

पीएम मोदी ने उद्घाटन के दौरान कहा कि हाल में ही भारत ने वैभव समिट भी होस्ट की थी। महीने भर चली इस समिट में पूरी दुनिया से भारतीय मूल के वैज्ञानिकों और रिसर्चर को एक मंच पर इकट्ठा किया गया। इसमें करीब 23 हजार साथियों ने हिस्सा लिया, 700 घंटों से ज्यादा की डिस्कशन हुई।पीएम मोदी ने कहा कि हाल में डिजिटल इंडिया अभियान का और विस्तार करने के लिए पीएम वाणी स्कीम की भी शुरुआत की गई है। इससे पूरे देश में सबके लिए क्वालिटी वाई-फाई कनेक्टिविटी संभव हो जाएगी।विज्ञान व्यक्ति के अंदर के सामर्थ्य को बाहर लाता है। यही स्प्रिट हमने कोविड वैक्सीन के लिए काम करने वाले हमारे वैज्ञानिकों में देखी है। हमारे वैज्ञानिकों कोरोना के खिलाफ लड़ाई में हमें बेहतर स्थिति में रखा है। आज गांव में इंटरनेट यूजर की संख्या शहरों से ज्यादा है। गांव का गरीब किसान भी डिजिटल पेमेंट कर रहा है। आज भारत की बड़ी आबादी स्मार्ट फोन आधारित ऐप से जुड़ चुकी है। आज भारत ग्लोबल हाईटेक पावर के इवोल्यूशन और रिवॉल्यूशन दोनों का सेंटर बन रहा है।

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *