अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के शताब्दी वर्ष समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मुख्य अतिथि के रूप में हिस्सा ले रहे हैं। इस दौरान पीएम मोदी विशेष डाक टिकट का भी विमोचन किया। यह कार्यक्रम इसलिए खास है क्योंकि ऐसा 1964 के बाद होने जा रहा है जब देश के प्रधानमंत्री एएमयू के कार्यक्रम को संबोधित करेंगे। पीएम के अलावा केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक भी इस समारोह में शामिल हुए हैं।

– बीते 100 वर्षों में AMU ने दुनिया के कई देशों से भारत के संबंधों को सशक्त करने का भी काम किया है। उर्दू, अरबी और फारसी भाषा पर यहां जो रिसर्च होती है, इस्लामिक साहित्य पर जो रिसर्च होती है, वो समूचे इस्लामिक वर्ल्ड के साथ भारत के सांस्कृतिक रिश्तों को नई ऊर्जा देती है। – पीएम मोदी

– पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना काल मे एएमयू दवारा समाज की मदद प्रेरणा दायक। एएमयू देश की शक्ति, न भूलना, न कमजोर होने देना।

– एएमयू को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि आज एएमयू से तालीम लेकर निकले लोग भारत के सर्वश्रेष्ठ स्थानों के साथ ही दुनिया के सैकड़ों देशों में छाए हैं। एएमयू के पढ़े लोग दुनिया में कहीं भी हों, भारत की संस्कृति का प्रतिनिधित्व करते हैं।

– पीएम नरेंद्र मोदी ने अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के शताब्दी समारोह में मुख्य तिथि के रूप में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए विशेष डाक टिकट जारी किया।

प्रधानमंत्री मोदी के संबोधन के लिए राष्ट्रीय सूचना केंद्र द्वारा यूनिवर्सिटी प्रशासन को एक लिंक भेजा गया है। इसी लिंक के माध्यम से यूनिवर्सिटी के प्रशासनिक ब्लॉक की कनेक्टिविटी हो पाएगी। इसके अलावा अन्य किसी एप या वेबसाइट के माध्यम से प्रधानमंत्री के संबोधन के लिए लिंक अप नहीं हो सकेगी।

अब से पहले तीन बार जारी हो चुका डाक टिकट 
केंद्र सरकार की ओर से एएमयू के संस्थापक सर सैयद अहमद खां के नाम से अब से पहले तीन बार डाक टिकट जारी किया जा चुका है। आखिरी बार वर्ष 2017 में एएमयू संस्थापक की जयंती को 100 वर्ष पूरे होने पर भी डाक टिकट जारी किया गया था। 

वीसी ने जताया था आभार
पीएम मोदी की तरफ से यूनिवर्सिटी का निमंत्रण स्वीकार करने के बाद वीसी ने उनके प्रति अपना आभार व्यक्त किया था। उस वक्त एएमयू के कुलपति प्रोफेसर तारिक मंसूर ने कहा था कि अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) समुदाय विश्वविद्यालय के समारोहों में भाग लेने के लिए उनकी स्वीकृति के लिए आभारी है।

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *