अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के शताब्दी वर्ष पर आज संबोधित करेंगे पीएम मोदी, 1964 के बाद ,56 साल बाद ऐसा करने वाले पहले प्रधानमंत्री हैं नरेंद्र भाई मोदी | अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के शताब्दी वर्ष समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मुख्य अतिथि के रूप में आज ऑनलाइन संबोधन करेंगे। पीएम मोदी के साथ ही केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक भी समारोह में शामिल होंगे। शताब्दी समारोह में प्रधानमंत्री का यह संबोधन वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से होगा | इस दौरान विश्वविद्यालय के कुलपति सैयदना मुफद्दल सैफुद्दीन और केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक भी इस कार्यक्रम का हिस्सा होंगे.यह कार्यक्रम इसलिए खास है क्योंकि ऐसा 1964 के बाद होने जा रहा है जब देश के प्रधानमंत्री एएमयू के कार्यक्रम को संबोधित करेंगें।इस समारोह के दौरान पीएम मोदी विशेष डाक टिकट का भी विमोचन करेंगे। यूनिवर्सिटी प्रशासन प्रधानमंत्री के ऑनलाइन संबोधन कार्यक्रम को अंतिम रुप दे चुका है। प्रधानमंत्री मोदी के संबोधन के लिए राष्ट्रीय सूचना केंद्र द्वारा यूनिवर्सिटी प्रशासन को एक लिंक भेजा गया है। इसी लिंक के माध्यम से यूनिवर्सिटी के प्रशासनिक ब्लॉक की कनेक्टिविटी हो पाएगी। इसके अलावा अन्य किसी एप या वेबसाइट के माध्यम से प्रधानमंत्री के संबोधन के लिए लिंक अप नहीं हो सकेगी।गौरतलब है कि अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के लिए आज का दिन सिर्फ शताब्दी समारोह के लिए ही खास नहीं है बल्कि इसलिए भी खास है क्योंकि 56 सालों बाद यहां प्रधानमंत्री का संबोधन होगा | बता दें कि 1964 में लाल बहादुर शास्त्री यूनिवर्सिटी को संबोधित किया था उसके बाद हुए सभी प्रधानमंत्रियों ने इससे दूरी ही बनाये रखी थी | हम सब जानते हैं कि अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय का विवादों से भी खूब नाता रहा है | कुछ साल पहले मोहम्मद अलि जिन्ना की तसवीर को लेकर भी यूनिवर्सिटी विवादों में आ गयी थी | नागरिकता संसोधन कानून के विरोध में भी अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी खूब सुर्ख़ियों में रहा जब हिंदुत्व के खिलाफ जम कर नारे लगाए गए | वहीं आज प्रधानमंत्री मोदी के भाषण एक तरफ जहां इसकी तारीफ की जा रही है तो वहीं दूसरी तरफ संबोधन को लेकर विरोध के सुर सुनाई दे रहे हैं| अब से पहले तीन बार जारी हो चुका डाक टिकट केंद्र सरकार की ओर से एएमयू के संस्थापक सर सैयद अहमद खां के नाम से अब से पहले तीन बार डाक टिकट जारी किया जा चुका है। आखिरी बार वर्ष 2017 में एएमयू संस्थापक की जयंती को 100 वर्ष पूरे होने पर भी डाक टिकट जारी किया गया था। वीसी ने जताया था आभारपीएम मोदी की तरफ से यूनिवर्सिटी का निमंत्रण स्वीकार करने के बाद वीसी ने उनके प्रति अपना आभार व्यक्त किया था। उस वक्त एएमयू के कुलपति प्रोफेसर तारिक मंसूर ने कहा था कि अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) समुदाय विश्वविद्यालय के समारोहों में भाग लेने के लिए उनकी स्वीकृति के लिए आभारी है।

By anita

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *